वॉर्ड क्लास एक्टर्स को लॉन्च करने में बॉलीवुड का योगदान हमेशा से ही काबिले तारीफ रहा है। भारतीय अभिनेताओं को उनकी प्रतिभा और उनकी शान के लिए पूरी दुनिया द्वारा सराहा जाता है|

भारतीय अभिनेता, फिल्म निर्माता, टेलीविजन होस्ट, सामयिक पार्श्व गायक और पूर्व राजनेता “अमिताभ बच्चन” को हिंदी सिनेमा में उनके काम के लिए जाना जाता है| बॉलीवुड द्वारा लॉन्च किए गए इस अभिनेता को लोकप्रिय रूप से “किंग ऑफ मिलेनियम” के रूप में जाना जाता है और भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे प्रभावशाली अभिनेताओं में से एक माना जाता है| 1970-1980 के दशक के दौरान, वह भारतीय फिल्म परिदृश्य में सबसे प्रभावशाली अभिनेता थे| फ्रांसीसी निर्देशक फ्रांकोइस ट्रूफ़ोट ने उन्हें “वन मैन इंडस्ट्री” का नाम देकर उनकी प्रतिभा को सम्मानित किया|

बच्चन का जन्म 1942 में इलाहाबाद में हिंदी कवि हरिवंश राय बच्चन और उनकी पत्नी, सामाजिक कार्यकर्ता तेजी बच्चन के यहाँ हुआ था। उन्होंने शेरवुड कॉलेज, नैनीताल और किरोड़ीमल कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की। उनके फिल्मी करियर की शुरुआत 1969 में “मृणाल सेन की फिल्म भुवन शोम में एक वॉयस नैरेटर” के रूप में हुई थी। उन्होंने पहली बार 1970 के दशक की शुरुआत में “जंजीर” , “दीवार” और “शोले” जैसी फिल्मों के लिए लोकप्रियता हासिल की, और हिंदी फिल्मों में उनकी ऑन-स्क्रीन भूमिकाओं के लिए उन्हें भारत का “एंग्री यंग मैन” करार दिया गया| “बॉलीवुड के शहंशाह” , “सादी का महानायक” , “स्टार ऑफ द मिलेनियम”, “बिग बी” जैसे अनेकानेक नाम दिए गए उनकी प्रतिभा का सम्मान करने के लिए| पांच दशकों से अधिक के करियर में 200 से अधिक भारतीय फिल्में,  और अपने करियर में कई पुरस्कार जीते हैं, जिसमें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में चार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, आजीवन उपलब्धि पुरस्कार के रूप में “दादासाहेब फाल्के पुरस्कार” जीता है| उन्होंने सोलह फिल्मफेयर पुरस्कार जीते हैं और कुल मिलाकर 42 नामांकन के साथ फिल्मफेयर में किसी भी प्रमुख अभिनय श्रेणी में सबसे अधिक नामांकित कलाकार हैं|

भारत सरकार ने उन्हें सिनेमा में उनके योगदान के लिए 1984 में “पद्म श्री” , 2001 में “पद्म भूषण” और 2015 में “पद्म विभूषण” से सम्मानित किया। फ़्रांस सरकार ने उन्हें सिनेमा और उससे आगे की दुनिया में उनके उत्कृष्ट करियर के लिए 2007 में अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान, “नाइट ऑफ़ द लीजन ऑफ़ ऑनर” से सम्मानित किया|

अपने करियर और अपने अभिनय के माध्यम से अमिताभ बच्चन न केवल “किंग ऑफ मिलेनियम” बल्कि ” करोड़ों दिलों के राजा” भी हैं और एक अभिनेता के लिए पूरी दुनिया के प्यार से बड़ा कोई पुरस्कार नहीं है|आज वह कई युवा अभिनेताओं के लिए एक प्रेरणा हैं और 78 साल की उम्र में भी वह हमारा मनोरंजन करते रहते हैं| अमिताभ बच्चन एक ऐसा नाम जो पूरी दुनिया के दिलों में हमेशा रहेगा क्योंकि ना सिर्फ बॉलीवुड के प्रति बल्कि हमारे देश के प्रति ओर दुनिया के प्रति , उनका योगदान अवर्णनीय है|

Previous articleSonu sood to be face of ‘desh ka mentor’ programme!
Next articleजन्माष्टमी : ऐसे करें अपने बच्चो को कृष्णा लुक के लिए तैयार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here