गाना हमारे जीवन में सुकून का दूसरा नाम है| वह हमें दुनिया की कठोरता से , और सामाजिक या पारिवारिक तनाव से हमारा मन हटा के हमारे मन को शांति देता है| गाना हमारे जीवन का एक बहुत ही अहम हिस्सा है| ऐसी कई बातें होती हैं जो हम बोल नहीं पाते मगर उन अनकही बातों के लिए एक गाना हमारे मन में होता है जिससे हम उन बातों को कह पाते हैं| हमारी मनोदशा कैसी भी हो गाने हमारे मन को बहला के हमारे जीवन में स्थिरता लाते हैं| कोई भी कार्यक्रम गानों के बगैर अधूरा लगता है चाहे वह शादी हो , या जन्मदिवस हो , या अन्य कोई भी पावन पर्व हो| गानो से ही हमारा हर एक कार्यक्रम रोशन होता है|

70’s और 80’s  के दशक में गानों का महासागर बना| एक से बढ़कर एक गाने हमारे संगीतकारों द्वारा बनाए गए थे| बहुत ही प्रसिद्ध हस्तियों जैसे लता मंगेशकर , गीता दत्त , मोहम्मद रफ़ी , आशा भोंसले , मन्ना डे , हेमंत कुमार , मुकेश , किशोर कुमार आदि ने अपने गीतों से हिंदी फिल्म जगत पुर नहीं उठाया दी| देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी बहुत से गीतों को पसंद किया गया और अनेक अनेक पुरस्कारों से नवाजा गया|

बीसवीं सदी मैं गानों का महासंगम था जब सभी गाने सर्वश्रेष्ठ थे| लता जी के गाए हुए कई गाने जैसे “प्यार किया तो डरना क्या” , “अल्लाह तेरा नाम” , “लग जा गले” आज भी बहुत प्रसिद्ध हैं जिनको गाने में बहुत से बड़े बड़े गायकों के भी पसीने छूट जाते हैं| आशा भोसले जी का गाया हुआ “रात अकेली है” , जिसके संगीतकार एसडी बर्मन साहब थे आज भी एक लोकप्रिय गीत है जिसे कितने वर्षों बाद भी पसंद किया जाता है| किशोर कुमार जी का “फिर वही रात है” , “तेरे बिना जिंदगी” , “तेरे मेरे मिलन की ये रैना” , “कुछ तो लोग कहेंगे” जैसे कई गीत हैं जिनका मुकाबला आज भी कोई गाना नहीं कर सकता| मोहम्मद रफ़ी साहब का “दिन ढल जाए” , “रात के हमसफर” , “तुम जो मिल गए हो” , मन्ना डे जी का “पूछो ना कैसे मैंने रैन बिताई” , मुकेश जी का “कहीं दूर जब दिन ढल जाए” जैसे अनगिनत गाने हैं जिनसे कभी मन नहीं भर सकता जो हमेशा लोकप्रिय रहेंगे और हमेशा हमारे हृदय में और इस जगत में अमर रहेंगे रहेंगे|
“ये शाम मस्तानी” , “एक प्यार का नगमा” , “गजब का है दिन” , “गुलाबी आंखें” , “पहला नशा” , “नीले नीले अंबर पर” , “मेरे रंग में रंगने वाली” , “आज मौसम बड़ा बेईमान है” , “यह दोस्ती हम नहीं तोडेंगे” , “कभी कभी मेरे दिल में” जैसे अनेक गीत हैं जो लोकप्रियता के शिखर पर हैं|

गानों के चलते ही हमारा हिंदी सिनेमा जगत आज लोकप्रियता के शिखर पर है| हमारे गायक , गायिका , संगीतकारों , गीतकारो की मेहनत का ही फल है कि आज हमारे पास एक से बढ़कर एक गीत है जिन की सराहना न सिर्फ हम बल्कि पूरा विश्व करता है|


https://youtu.be/wp7zOathDFo
https://youtu.be/I5t894l5b1w
https://youtu.be/YoThngCrGGc
https://youtu.be/8-HnmVg0-O8
https://youtu.be/R2HQGNuIY-Y
https://youtu.be/C-5WjfVmxKQ
https://youtu.be/H2BTCPW3Hw8
https://youtu.be/wp7zOathDFo

Previous article23 YEARS OF BOLLYWOOD: Preity Zinta: BlamGlam
Next articleAfghanistan suffers, Imran Khan praises Taliban

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here