जापान की राजधानी टोक्यो में आयोजित टोक्यो पैरालंपिक में भारत का प्रदर्शन शानदार रहा है। सोमवार के दिन की शुरुआत में पहले अवनी लखेड़ा ने 10 मीटर एयर राइफल SH1 में गोल्ड मेडल अपने नाम किया। शाम होने ही वाली थी कि जैवलिन थ्रो में हरियाणा के सुमित अंतिल (Sumit Antil) ने भाला फेंक में नए वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ भारत की झोली में दूसरा स्वर्ण पदक भी डाल दिया। सुमित अंतिल ने 2015 में एक मोटरबाइक दुर्घटना में अपना बायां पैर घुटने के नीचे से गंवा दिया था। दिल्ली के रामजस कॉलेज के छात्र अंतिल दुर्घटना से पहले पहलवान थे।

आपको बता दें इस सुमित F64 फाइनल कैटिगरी में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। इससे पहले सुबह जेवलिन थ्रो की AF 46 स्पर्धा में देवेंद्र झझारिया और सुंदर सिंह गुर्जर ने क्रमश: सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किए थे। उन्होंने 62.88 मीटर के अपने ही पिछले विश्व रिकार्ड को दिन में पांच बार और भी अच्छा किया। हालांकि उनका आखरी थ्रो ‘फाउल’ रहा। उनके थ्रो की सीरीज 66.95, 68.08, 65.27, 66.71, 68.55 और फाउल रही। आस्ट्रेलिया के मिचाल बुरियन (66.29 मीटर) और श्रीलंका के डुलान कोडिथुवाक्कू (65.61 मीटर) ने क्रमश: रजत और कांस्य पदक जीते।

टोक्यो पैरालंपिक में भाला फेंक प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतने पर सुमित को काफी बधाईयां मिल रही हैं। यहां तक टोक्यो ओलम्पिक के गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा और साथ ही भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भी सुमित को बधाई दी है। आपको बता दें कि सुमित अंतिल ने दुबई में 2019 विश्व चैम्पियनशिप में एफ64 भाला फेंक स्पर्धा में रजत पदक जीता था।

Previous articleED questions Jacqueline fernandez in Delhi!
Next articleIndia strikes double gold in a day

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here